140 क्विंटल की इस अद्भुत प्रतिमा को देखकर आप भी हो जाएंगे हैरान

140 क्विंटल की इस अद्भुत प्रतिमा को देखकर आप भी हो जाएंगे हैरान

गणेश भगवान के देश के साथ विदेशों में कई मंदिर हैं। जिनकी प्रसिद्धि का कारण है विघ्नहर्ता की भव्य, खूबसूरत व प्राचीन स्थापित प्रतिमाएं। गणेश उत्सव के इस खास मौके पर हम आपको बताने जा रहे हैं गणपति बप्पा के एक ऐसे ही मंदिर के बारे में जहां इनकी बहुत भारी प्रतिमा स्थापित है। हम बात कर रहे हैं दक्षिण भारत के एक अजब मंदिर के बारे में जो एशिया का एकमत्रा ऐसा मंदिर है जहां 14 टन वजनी प्रतिमा विराजित है। इस भव्य प्रतिमा के दर्शन करने के लिए दूर दूर से लोग बड़ी संख्या में आते हैं।

तमिलनाडु राज्य के कोयंबटूर से 14 कि.मी दूर पुलियाकुलम में स्थित मंदिर वहीं मंदिर है जहां गणपति की ये विशाल मूर्ति प्रतिष्ठित है। यहां इसे श्री मुंथी विनायक गणपति के नाम से जाना जाता है। यहां एशिया की सबसे भारी गणेश प्रतिमा स्थापित है। मुंथी विनायक गणपति की यहां करीब 20 फीट ऊंची और 11 फीट चौड़ी प्रतिमा है। जिसके बार में मान्यता है कि इसके दर्शन करने से भक्तों को आरोग्य वरदान की प्राप्ति होती है। बता दें यहां बप्पा के एक हाथ में अमृत कलश है जिसे ये मूर्ति भक्तों के लिए आकर्षण का मुख्य केंद्र बनी हुई है।


14,000 किलो की है मुंथी गणेश प्रतिमा
बताया जाता है यहां स्थापित गणेश प्रतिमा की सबसे बड़ी खासियत ये है कि बजकी यह प्रतिमा ग्रेनाइट की एक ही चट्टान पर ही उकेरी गई है जो करीबन 140 क्विंटल वजनी है। सैंकड़ों कलाकारों ने बहुत मेहनत के बाद इस सुंदर व अद्भुत प्रतिमा को उकेरा है। कहा जाता है ये पूरे एशिया में ये एक मात्र प्रतिमा है, जो 14 हजार किलो यानि 14 टन वजनी है।

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Linkedin Join us on Linkedin Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS