विश्व कप से पहले BCCI ने लिया बड़ा फैसला, ईशांत शर्मा भी हैं हैरान

विश्व कप से पहले BCCI ने लिया बड़ा फैसला, ईशांत शर्मा भी हैं हैरान

नई दिल्ली: इंग्लैंड में अगले महीने से शुरू होने वाले विश्व कप के लिए 15 सदस्यीय भारतीय टीम की घोषणा कर दी गई है।

विश्व कप टीम में कई खिलाड़ियों के नाम नदारद रहने से क्रिकेट के गलियारों में बहस छिड़ी हुई थी।


लेकिन, बीसीसीआई ने उन खिलाड़ियों के जख्मों पर मरहम लगाते हुए उन्हें टीम के स्टैंडबाई के रुप में रखा हुआ है।

पिछले काफी समय से अंबाती रायुडू और ऋषभ पंत को भारत की विश्व कप टीम में शामिल किए जाने की बातें चल रही थी।

लेकिन, इन दोनों के ही नाम विश्व कप टीम से नदारद रहे।

अब बीसीसीआई ने इन दोनों खिलाड़ियों को विश्व कप के स्टैंड बाई में शामिल किया है। इनके अलावा ईशांत शर्मा, नवदीप सैनी और अक्षर पटेल भी भारतीय टीम के स्टैंड बाई होंगे।

बीसीसीआई के अधिकारी ने आईएएनएस से बातचीत के दौरान बताया कि, ‘पांच खिलाड़ियों ईशांत, अक्षर, पंत, रायुडू और सैनी  को बता

दिया गया है कि वे स्टैंड-बाई सूची में शामिल हैं और अगर उनकी जरूरत पड़ती है तो उन्हें तैयार रहना चाहिए। बोर्ड ने खिलाड़ियों को सूचित

कर दिया है कि उन्हें स्टैंड-बाई में रखा गया है। इनमें से चार खिलाड़ी टीम के साथ इंग्लैंड नहीं जाएंगे सिर्फ नवदीप सैनी भारतीय टीम के साथ

इंग्लैंड जाएंगे।’

अधिकारी ने कहा, ‘हम स्टैंड बाई के लिए दो बल्लेबाजों, दो तेज गेंदबाज और एक स्पिनर को देख रहे थे। जैसा कि आप जानते हैं कि ये विश्व

कप राउंड रॉबिन प्रारूप के आधार पर खेला जाना है।

प्रत्येक टीम को टूर्नामेंट में प्रत्येक टीम से मैच खेलना है इसलिए टूर्नामेंट काफी लंबा है।

इसलिए इन खिलाड़ियों को पहले से ही तैयार रहने के लिए कह दिया गया है।’

पिछले काफी समय से भारतीय वनडे टीम से बाहर चल रहे दाएं हाथ के तेज गेंदबाज इशांत ने काफी समय से वनडे मैच नहीं खेला है।

उन्हें भी स्टैंड-बाई के रुप में शामिल किया गया है।

गौरतलब है कि वह इंग्लैंड में 2013 में चैम्पियंस ट्रॉफी जीतने वाली भारतीय क्रिकेट टीम का भी हिस्सा थे।

ईशांत ने 2016 में अपना आखिरी वनडे मैच खेला था।

हालांकि, वह इस समय टेस्ट टीम में स्थाई सदस्य हैं।

इशांत के चयन के बारे में अधिकारी ने बताया कि, ‘आप बाजार में अनुभव नहीं खरीद सकते।

इसके अलावा इशांत एक गेंदबाज के रूप में काफी परिपक्व हो गए हैं और जानते हैं कि उनके लिए क्या आवश्यक है।

विश्व कप जैसे टूर्नामेंट को देखते हुए यह महसूस किया गया कि दबाव की स्थिति में वह बेहतर विकल्प हो सकते हैं।

उन्होंने पहले भी खुद को ऐसी परिस्थितियों में साबित किया है और वो फिर से ऐसा कर सकते हैं।’

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Linkedin Join us on Linkedin Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS