कंगाली की कगार पर विकिपीडिया, भारतीयों के आगे फैली झोली

कंगाली की कगार पर विकिपीडिया, भारतीयों के आगे फैली झोली

विकिपीडिया की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है। अपनी आर्थिक स्थिति में सुधार के लिए विकिपीडिया ने अपने भारतीय पाठकों से पैसे की मांग की है। विकिपीडिया ने इसके लिए अपने होम पेज पर एक खत भी लिखा है। इसमें विकिपीडिया ने अपने आर्थिक हालात का जिक्र किया है।

इंटरनेट पर ज्ञान का भंडार कहे जाने वाले विकिपीडिया की आर्थिक स्थिति  ठीक नहीं है। अपनी माली हालात के कारण विकिपीडिया ने भारत के अपने पाठकों से चंदे की मांग की है। विकिपीडिया ने अपने होम पेज पर भारतीयों (Indian) के नाम एक खुला खत लिखा है। इसमें उसने अपने आर्थिक हालात का जिक्र किया है। विकिपीडिया ने लिखा है कि उसे पैसे की सख्त जरूत है और वो अपने पाठकों से विनम्र निवेदन करता है कि उसे उसके पाठक कुछ पैसों का दान दें, ताकि उसका काम काज ठीक से चल सके हैं।


भारतीयों के नाम अपने खुले खत में विकिपीडिया ने लिखा है कि उसे पैसे की शख्त जरूरत है, लिहाजा लोग उसकी मदद के लिए आगे आएं। उसने आगे लिखा है कि ‘हम लोगों से नम्र निवेदन करते हैं कि वो विकिपीडिया की स्वतंत्रता को बचाए रखने के लिए आगें आए। पिछले बुधवार को हमने लोगों से विकिपिडिया की स्वतंत्रता को बचाए रखने के लिए नम्र निवेदन किया था। हमने लोगों से 1000 रुपये अनुदान की मांग की थी, लेकिन हमारे 98 फीसदी पाठकों ने मदद के लिए हाथ नहीं बढ़ाया। लिहाजा, जो भी पाठक इसे पढ़ रहे हैं वो कम से कम 150 रुपये का दान करें। यह राशि आपके एक सप्ताह के काफी के बिल से भी कम है, लेकिन इससे कई सालों तक विकिपीडिया स्वायता बनी रहेगी।’

विकिपीडिया पर प्रकाशित खत में आगे लिखा गया है कि ‘जब हमने इसे गैर-लाभकारी बनाने का फैसला किया तो लोगों ने हमें चेतावनी देते हुए कहा कि हम अपने इस फैसले को लेकर पछताएंगे।’ साथ ही भारतीयों के नाम इस खुले खत में आगे कहा गया है कि ‘अगर हम इसे व्यावसायिक बनाते हैं तो इससे दुनिया को बड़ा नुकसान होगा। विकिपीडिया सभी को एकजुट करता है जो ज्ञान से प्यार करते हैं। हम अपने सभी योगदानकर्ता, पाठक, और दाता का शुक्रिया कहते हैं। विकिपीडिया का दिल और आत्मा एक ऐसे लोगों का समुदाय है जो आपतक तटस्थ जानकारी पहुंचाने और आपको असीमित उपयोग में लाने के लिए काम कर रहा है। कृपया आप विकिपीडिया को ऑनलाइन रखने और विकसित करने में हमारी मदद करने के लिए एक मिनट का समय दें। धन्यवाद।’

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Linkedin Join us on Linkedin Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS