क्या है डार्क टूरिज्म? इन 7 जगहों को लेकर भारतीयों में बढ़ रहा है क्रेज

क्या है डार्क टूरिज्म? इन 7 जगहों को लेकर भारतीयों में बढ़ रहा है क्रेज

घूमने की बात हो तो हर कोई किसी नई जगह जाना पसंद करता है. छुट्टी के लिए प्लान करने से पहले खूबसूरत जगहों की एक विश लिस्ट बन जाती है. पर आजकल भारतीय पर्यटकों के रुझान में एक बदलाव देखा जा रहा है. टूरिज्म रिपोर्ट में ये बात सामने आई है कि टूरिस्ट प्लेस को लेकर लोगों के विचार बदल रहे हैं. किसी मनमोहक या एडवेंचर वाली जगह पर जाने की बजाय लोगों की दिलचस्पी अब डार्क टूरिज्म में बढ़ रही है. किसी त्रासदी, हमले या युद्ध से जुड़ी देश-विदेश की ऐतिहासिक जगहें ‘डार्क टूरिज्म’ में आती हैं. ऐसी जगहों पर जाकर घूमने के साथ ही लोग अपनी जानकारी भी बढ़ा रहे हैं. यहां हम बता रहे हैं कुछ ऐसी ही खास जगहों के बारे में जहां सबसे ज्यादा भारतीय घूमने आते हैं.

#1. जलियावाला बाग
अमृतसर के जलियावाला बाग में भारतीय स्वाधीनता संग्राम की कहानी दिखती है. यहां की दीवारें ब्रिटिश हुकूमत के जुल्मों की दास्तां बयां करती हैं. इतिहास में रुचि रखने वाले पर्यटक एक बार यहां जरूर पहुंचते हैं.


#2. गुजरी महल म्यूजियम
ग्वालियर के गुजरी महल म्यूजियम की खास बात वहां की कांस्य प्रतिमाएं, शिलालेख और सिक्के हैं. लेकिन इस म्यूजियम के पीछे एक बहुत बड़ा परिसर है जिसमें ब्रिटिश अधिकारियों की कब्रगाह है. ये कब्रगाह 1857 की क्रांति के दौरान की हैं. यहां जंग में मारे गए अंग्रेजों को दफनाया गया है. इसे देखने के लिए विदेशों से भी बहुत टूरिस्ट आते हैं.

#3. झांसी का किला
झांसी की रानी लक्ष्मीबाई का ये किला एक चट्टानी पहाड़ी पर है. इसे बुंदेलखंड की कलाकृतियों की वजह से भी जाना जाता है. पर ज्यादातर लोग रानी लक्ष्मीबाई के बारे में जानने के लिए आते हैं जिन्होनें अंग्रेजो से लड़ते हुए यहां अपनी जान दे दी थी.

#4. श्रीलंका का सेंट सेबेस्टियन चर्च
विदशों में कम बजट की ट्रिप के लिए श्रीलंका हमेशा पर्यटकों की पहली पसंद रहा है, पर 21 अप्रैल 2019 को ईस्टर के मौके हुए धम धमाकों से ये देश दहल गया था. सैंकड़ों संख्या में यहां आकर लोग मृतकों को श्रद्धांजलि दे रहे हैं. ये जगह भी धीरे-धीरे मशहूर हो रही है.

#5. न्यूयॉर्क का वर्ल्ड ट्रेड सेंटर
आतंकवादी हमले के बाद न्यूयॉर्क के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर को अमेरिका की सरकार पहले ही डार्क टूरिज्म के तहत विकसित कर चुकी है. पर्यटक यहां आकर हमले में मारे गए लोगों की याद में फूल चढ़ाते हैं.

#6. पोलैंड का ऑशविट्ज एकाग्रता शिविर
टूरिस्ट को ये जगह बहुत आकर्षित करती है. द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान यहां सबसे बड़े एकाग्रता शिविर का आयोजन किया गया था जिसमें सैकड़ों लोगों को बैरकों में रखा गया था.

#7. कंबोडिया का टोल स्लेंग संग्रहालय
इस नरसंहार संग्रहालय से कंबोडिया के इतिहास के बारे में पता चलता है. यहां के क्रूर शासक ने कई लोगों को मौत के घाट उतार दिया था. यहां मरे हुए लोगों की खोपड़ियों को एक स्थान पर रखा गया है. यहां भारी संख्या में पर्यटक आते हैं.

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Linkedin Join us on Linkedin Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS