मेरठ की ये बिटिया करोड़ों को दे रही है प्रेरणा, राष्ट्रपति ने किया सम्मानित

मेरठ की ये बिटिया करोड़ों को दे रही है प्रेरणा, राष्ट्रपति ने किया सम्मानित

उत्तर प्रदेश में मेरठ की बेटी आरुषि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने बाल शक्ति पुरस्कार से सम्मानित किया है. बचपन से सुन नहीं सकने वाली आरुषि के संघर्ष की लम्बी दास्तान है. आरुषि और उसके परिवारवालों ने कभी हिम्मत नहीं हारी, इसी हिम्मत और हौसले का नतीज़ा है कि आरुषि ने बैडमिंटन के क्षेत्र में कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय पदक जीते हैं. अब आरुषि का सपना डेफ ओलम्पिक्स में भी भारत का नाम विश्वपटल पर रोशन करना है. राष्ट्रपति से पदक पाने वाली आरुषि करोड़ों लोगों को प्रेरणा दे रही है.

संघर्ष की इस कहानी को ख़ासतौर से उन युवाओं को ज़रुर देखना चाहिए जो चंद मुश्किलों में ही हार मान जाते हैं. ये कहानी है मेरठ की चौदह साल की बेटी आरुषि की. आरुषि बचपन से ही सुन और बोल नहीं सकतीं. राष्ट्रपति से पुरस्कार मिलने के बाद आरुषि और उनके परिवारवालों की ख़ुशी का ठिकाना नहीं है. आरुषि अपनी टूटी फूटी भाषा में जब हमसे बात करती हैं तो उनके शब्द कम उनकी आंखे ज्यादा बोलती हुई नज़र आती हैं.


आरुषि के माता-पिता ने भी कभी उसे लेकर हिम्मत नहीं हारी

आरुषि के पिता की आंखें आज भी उस दौर को लेकर भर आती है, जब उन्हें बचपन में ये पता चला था कि आरुषि ज़िन्दगी भर न बोल सकती है न ही सुन सकती है. लेकिन माता पिता ने कभी हिम्मत नहीं हारी. उन्होंने आरुषि को कई जगह दिखाया और आखिरकार एक दिन उन्हें उस वक्त कामयाबी हासिल हुई जब एक ट्रांसप्लांट के ज़रिए डॉक्टरों से ये भरोसा मिला कि वो पूरी तरह से तो नहीं लेकिन थोड़ा-थोड़ा सुन सकेगी और थोड़ा-थोड़ा ही बोल सकेगी. इसके बाद माता पिता ने और ख़ुद आरुषि ने खेल की दुनिया में अपना नाम रोशन करने की ठानी. इस बिटिया ने बैडमिंटन खेलना शुरू किया और फिर क्या था देखते ही देखते आरुषि ने पदकों की झड़ी लगा दी. राष्ट्रपति पुरस्कार मिलने के बाद आरुषि का परिवार ख़ुशी से फूले नहीं समा रहा है.

कई चैंपियनशिप में किया शानदार प्रदर्शन

आरुषि की उपलब्धियों पर अगर नज़र डालें. तो उन्होंने साल 2018 में एशिया पैसिफिक डेफ यूथ बैडमिंटन चैम्पियनशिप, मलेशिया में पदक जीता. .छठे नेशनल जूनियर और सब जूनियर गेम्स ऑफ डेफ, चेन्नई 2019 में कांस्य पदक जीता. पांचवें नेशनल गेम्स जूनियर और सब जूनियर गेफ ऑफ डेफ रांची में मिक्सड डबल में स्वर्ण पदक जीता. 21वें नेशनल गेम्स ऑफ द डेफ, चेन्नई 2017 में रजत पदक जीता. इसके अलावा उनकी सफलता का लम्बा कारवां है. आरुषि अभी नवीं की छात्रा हैं और आगे चलकर वो डेफ ओलम्पिक्स में भारत के लिए स्वर्ण पदक जीतने का सपना रखती हैं. ऐसी होनहार बिटिया को न्यूज़ 18 की टीम की तरफ से भी ढेरों शुभकामनाएं कि वो ऐसी ही खेलती रहें और भारत का नाम रोशन करती रहें.:

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Linkedin Join us on Linkedin Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS