गरीबी का सबक बुकों से सीखा नहीं गया, मैंने रेलवे को पहले ही चाय बेचकर इसे जिया है: पीएम नरेंद्र मोदी

गरीबी का सबक बुकों से सीखा नहीं गया, मैंने रेलवे को पहले ही चाय बेचकर इसे जिया है: पीएम नरेंद्र मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (पीएम नरेंद्र मोदी) ने कहा कि मैं किसी राजनीतिक परिवार (राजनीतिक परिवार) से नहीं हूं। मैंने किताबों से गरीबी (गरीबी) का कोई सबक नहीं सीखा है लेकिन मैंने इसे जिया है। मैं रेलवे प्रीलेट प्रदर्शन पर चाय बनाने चला गया। सऊदी अरब (सऊदी अरब) के दो दिन के दौरे पर पहुंचे पीएम मोदी ने रियाद में फ्यूचर इन्वाइमेंटमेंट इंसाइड 2019 (फ्यूचर इन्वेस्टमेंट इनिशिएटिव 2019) के एक सत्र में कहा कि मैं गरीबों को सशक्त (सशक्तिकरण) कर गरीबी के खिलाफ लड़ना चाहता हूं। कबीलों को सममान चाहिए। जब एक गरीब कहता है कि वह अपनी गरीबी अपने दम पर ख्रेडम करेगा तो इससे जियादा संतुष्टि की कोई बात नहीं हो सकती है।

तेल व गैस इंकफ्रास्टचर में 2024 तक 100 अरब डॉलर का निवेश भारत करेगा
पीएम मोदी ने कहा कि भारत अगले कुछ वर्षों में गरीबी को सफलता के साथ खेमाम कर देगा। उन्होंने कहा कि शौचालय निर्माण (शौचालय निर्माण) और जनधन खातों (बैंक खातों) के जरिये भारत में गरीबों को सशक्त बनाने जा रहा है। इससे उनम सममान का अनुभव हुआ है। पीएम मोदी ने सऊदी अरब और अन्य तेल उत्पादक देशों (तेल उत्पादकों) की ओर से तेल की आपूर्ति (आपूर्ति) बढ़ाने के लिए निवेश (निवेश) बढ़ाने की मांग के बीच तेल व गैस इन्फ्रास्क्टक्चर में 7.10 लाख करोड़ रुपये (100 अरब डॉलर) के निवेश के साथ । घोषणा ’।


पीएम मोदी ने कहा, पारदर्शी नीतियों वाले शासन के कारण बढ़ा विदेशी निवेश प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि स्थिर और पारदर्शी नीतियों (स्थिर और पारदर्शी नीतियां) वाले शासन ने भारत में विदेशी निवेश (विदेशी निवेश) को बढ़ावा दिया है। इस समय भारत तेल व गैस इनफ्रास्ट्रक्चर (तेल और गैस इन्फ्रास्ट्रक्चर) में भारी भरकम निवेश कर रहा है। अगले पांच साल में यानी 2024 तक भारत ऑयल रिफाइनिंग क्षमता बढ़ाने, नई पाइपलाइन बिछाने और गैस की टर्मिनल बनाने में 100 अरब डॉलर का निवेश करेगा। भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा तेल उत्पादन (ऊर्जा उपभोक्ता) है। देश की 83 प्रति ऊर्जा जरूरतें आरंभ पर निर्भर हैं। भारत की टो गैस आपूर्ति विदेश से होती है।

भारत-सऊदी संबंधों को रणनीतिक साझेदारी तक ले जाना चाहते हैं पीएम मोदी
भारत में प्रतिगामी ऊर्जा की खपत (प्रति व्यक्ति ऊर्जा खपत) वैश्विक औसत का एकांश है। ऐसे में भारत तेल व गैस इनफ्रास्ट्रक्टचर के साथ ही इसके शहरों तक वितरण (शहर वितरण) की व्यवस्थाओं में भारी निवेश कर रहा है। पीएम मोदी के मुताबिक, सरकार चाहती है कि तेजी से उभरती हुई अर्थवक्शंसथा में ऊर्जा जरूरतों की आपूर्ति में किसी तरह की रुकावट नहीं आनी चाहिए। सऊदी अरब भारत को कच्छे तेल की आपूर्ति करने वाला दूसरा सबसे बड़ा उत्पाद है। ऐसे में मोदी सरकार चाहती है कि दोनों देशों के संबंध निर्माता और विक्रेता (क्रेता * विक्रेता) से आगे रणनीतिक साझेदारी तक पहुंच बढ़े।

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Linkedin Join us on Linkedin Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS