मद्रास हाईकोर्ट का फैसला: हिन्दू विवाहित अधिनियम के तहत दुल्हन भी ट्रांससेक्सुअल

मद्रास हाईकोर्ट का फैसला: हिन्दू विवाहित अधिनियम के तहत दुल्हन भी ट्रांससेक्सुअल

मद्रास हाईकोर्ट की पीठ ने अपने एक अहम आदेश में कहा है कि हिंदू विवाह अधिनियम के तहत ट्रांससेक्सुअल भी ‘दुल्हन’ है और यह शब्द केवल महिलाओं को ही संदर्भित नहीं करता है। जस्टिस जीआर स्वामीनाथन यह आदेश एक पुरुष और एक ट्रांसवुमन की याचिका पर दिया है।

पिछले साल अक्तूबर में तूतीकोरिन के अरुण कुमार और ट्रांसवुमन श्रीजा की शादी को अधिकारियों ने रजिस्टर करने के इनकार कर दिया था, जिसके बाद दोनों ने हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। कोर्ट ने याचिका को स्वीकार करते हुए रजिस्टर डिपार्टमेंट अधिकारियों ने याचिकाकर्ताओं की शादी को रजिस्टर करने का निर्देश दिया। इसके अलावा कोर्ट ने ट्रांसजेंडरों की दुर्दशा पर चिंता जताते हुए राज्य सरकार को इंटरसेक्स नवजात और बच्चों में सेक्स चेंज ऑपरेशन को प्रतिबंधित करने का भी आदेश दिया है।


अपने आदेश में महाभारत और रामायण के साथ साथ सुप्रीम कोर्ट के आदेशों को हवाला देते हुए जस्टिस स्वामीनाथन ने कहा कि दुल्हन शब्द का अर्थ सीमित नहीं हो सकता। दुल्हन शब्द सिर्फ एक महिला के लिए नहीं बल्कि एक ट्रांसवुमन के लिए भी इस्तेमाल होगा। उन्होंने कहा कि शीर्ष अदालत भी कह चुकी है कि ट्रांसजेंडर व्यक्तियों को उनका लिंग तय करने का अधिकार है।

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Linkedin Join us on Linkedin Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS