खेल टूर्नामेंट और चयन ट्रायल 15 अप्रैल तक बंद करें, केंद्रीय मंत्रालय के निर्देश

केंद्रीय खेल मंत्रालय ने कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के कारण राष्ट्रीय खेल महासंघों (एनएसएफ), भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) और भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) को सभी खेल प्रतियोगिताओं और चयन प्रक्रियाओं को 15 अप्रैल तक स्थगित करने की सलाह दी है.

मंत्रालय ने गुरूवार को जारी एक बयान में कहा, सभी खेल संगठनों और उनसे जुडी संबंधित इकाइयों को सलाह दी गयी है कि 15 अप्रैल तक किसी भी तरह की प्रतियोगिताओं और चयन प्रक्रियाओं को आयोजित नहीं करें. मंत्रालय ने राष्ट्रीय खेल महासंघों को ओलंपिक की तैयारी कर रहे एथलीटों को उन लोगों से अलग करने के लिये कहा है जो उनके प्रशिक्षण शिविर का हिस्सा नहीं है. विज्ञप्ति में यह भी कहा गया है कि शिविर में नहीं रहने वाले कोच और प्रशिक्षण कर्मियों को बिना क्वारेंटीन नियमों का अनुसरण किये प्रशिक्षु खिलाड़ियों से मिलने की इजाजत नहीं होगी.


इससे पहले भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) ने कोरोना वायरस के खतरे के चलते अपने सभी राष्ट्रीय केंद्रों को बंद कर दिया था और ट्रेनिंग निलंबित कर दी थी लेकिन उसके केंद्रों में ओलंपिक की तैयारी जारी रखने का फैसला किया था. साई ने बताया था कि उसने अपने सभी राष्ट्रीय केंद्रों और साई ट्रेनिंग सेंटर में कोरोना को रोकने के लिए कई बड़े कदम उठाए हैं. राष्ट्रीय केंद्रों और ट्रेनिंग सेंटर में अकादमिक ट्रेनिंग तत्काल प्रभाव से अगले आदेश तक के लिए निलंबित कर दी गयी है. हालांकि हॉस्टल सुविधाएं 20 मार्च तक के लिए खुली रहेंगी ताकि एथलीटों को असुविधा ना हो.

सभी राष्ट्रीय शिविर स्थगित कर दिए गए हैं और केवल वही शिविर खुले हैं जहां एथलीट ओलंपिक की तैयारियां कर रहे हैं. जिन एथलीटों की अगले कुछ दिनों में परीक्षा है उन्हें केंद्र में रहने की अनुमति रहेगी ताकि वे अपने परीक्षा दे सकें. लेकिन यह भी सुनिश्चित किया जा रहा है कि सभी स्वास्थ्य प्रक्रियाओं का पूरी तरह पालन किया जाए जिससे केंद्र में रुकने वाले एथलीटों को कोई संक्रमण ना हो.

अन्य सभी प्रशिक्षुओं को उनके माता-पिता को सूचना देने के बाद घर भेज दिया गया है. जिनके घर केंद्र से 400 किलोमीटर के दायरे में हैं उन्हें एसी थ्री टियर का ट्रेन टिकट दिया गया है और जिनके घर 400 किलोमीटर से आगे हैं उन्हें हवाई यात्रा का टिकट दिया गया है. किसी टूर्नामेंट, खेल समारोह, सेमीनार या कार्यशाला का तब तक आयोजन नहीं किया जाएगा जब तक केंद्र या राज्य सरकारें कोरोना को लेकर लगाए गए प्रतिबंधों को हटा नहीं देतीं. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार भारत में कोविड-19 से चार लोगों की मौत हो चुकी है जबकि संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 166 हो गयी है.

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Linkedin Join us on Linkedin Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS