कश्मीर में स्थिति तनावपूर्ण, मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बंद

कश्मीर में स्थिति तनावपूर्ण, मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बंद

आतंकवादी हमले की आशंका और नियंत्रण रेखा पर तनातनी बढऩे के बीच कश्मीर घाटी में महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों और संवेदनशील स्थानों पर सुरक्षाबलों की तैनाती बढ़ाए जाने के साथ ही रविवार को तनाव की स्थिति बनी रही।

पुलिस ने कहा कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिये ऐहतियाती कदम के तौर पर घाटी में मोबाइल इंटरनेट सेवाएं अस्थायी रूप से रोक दी गयी हैं। जम्मू-कश्मीर प्रशासन द्वारा शुक्रवार को अमरनाथ यात्रा बीच में ही समाप्त करने और तीर्थयात्रियों एवं पर्यटकों से यथाशीघ्र घाटी छोडऩे के लिए कहे जाने के बाद परेशान स्थानीय लोग घरों में जरूरी सामानों का स्टॉक करने के लिए दुकानों और ईंधन स्टेशनों पर बड़ी-बड़ी लाइनों में खड़े नजर आए।


जम्मू-कश्मीर क्रिकेट टीम के मार्गदर्शक और भारतीय टीम के पूर्व हरफनमौला खिलाड़ी इरफान पठान किशोर खिलाडिय़ों के साथ श्रीनगर से रवाना हो गए हैं। वह अंडर-16 (विजय मर्चेंट ट्राफी) और अंडर-19 (कूचबेहार ट्राफी) के ट्रायल्स को देखने और संभावित खिलाडिय़ों की सूची तैयार करने के लिए श्रीनगर में थे।

पठान ने कहा, ”हमने जूनियर टीम ट्रायल्स के दूसरे चरण को फिलहाल स्थगित कर दिया है…. चूंकि सरकारी परामर्श जारी किया गया है… मेरी जम्मू-कश्मीर क्रिकेट एसोसिएशन के साथ बैठक हुई … उसमें तय हुआ कि लडक़ों को वापस भेज दिया जाए।” विभिन्न शैक्षणिक संस्थानों ने भी विद्याॢथयों को छात्रावास खाली करने का निर्देश दिया है।

अधिकारियों ने कहा कि अतिरिक्त सुरक्षा बलों को कश्मीर घाटी के पूरे क्षेत्र और संभावित खतरे क्षेत्रों में तैनात किया गया है जो पिछले सप्ताह यहां आए थे। उन्होंने कहा कि सचिवालय, पुलिस मुख्यालय, हवाई अड्डों, विभिन्न केंद्र सरकार के प्रतिष्ठानों जैसे महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों के आसपास सुरक्षा कर्मियों की संख्या बढ़ाई गई है। शहर की ओर जाने वाले रास्तों पर बैरिकेड्स लगाए गए हैं।

अधिकारियों के मुताबिक, दिल्ली में रविवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने रविवार को शीर्ष सुरक्षा अधिकारियों के साथ बैठक की। समझा जाता है कि उन्होंने जम्मू-कश्मीर की वर्तमान स्थिति पर चर्चा की। घंटे भर चली इस बैठक में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, केंद्रीय गृह सचिव राजीव गॉबा और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों ने हिस्सा लिया।

यह बैठक ऐसे समय में हुई है जब नियंत्रण रेखा के साथ भारत और पाकिस्तान के सुरक्षा बलों के बीच ताजा झड़पें हुई हैं। सेना ने केरन सेक्टर में नियंत्रण रेखा पर ‘बैट’ के हमले को नाकाम कर दिया और पांच से सात सरदारों को गिरा दिया गया। ‘बैट’ में आमतौर पर विशेष सुरक्षाकर्मी और पाकिस्तानी सेना के आतंकवादी शामिल होते हैं।


Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Linkedin Join us on Linkedin Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS