पूर्व विधायक ने चुनाव आयोग से मांगी किडनी बेंचने की इजाजत, चुनाव लड़ने के लिए नहीं है पैसे

पूर्व विधायक ने चुनाव आयोग से मांगी किडनी बेंचने की इजाजत, चुनाव लड़ने के लिए नहीं है पैसे

बालाघाट: मध्यप्रदेश के बालाघाट संसदीय क्षेत्र से निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ रहे पूर्व विधायक किशोर समरीते ने महंगे होते चुनाव और अपनी आर्थिक स्थिति का हवाला देते हुए चुनाव आयोग से आर्थिक मदद करने अथवा अपना गुर्दा बेचने देने की अनुमति मांगी है।

समरीते ने बालाघाट के जिला निर्वाचन अधिकारी को पत्र लिखकर कहा है, ‘लोकसभा चुनाव में उम्मीदवार के लिए अधिकतम व्यय सीमा 75 लाख रुपये है, मगर मेरे पास चुनाव लड़ने के लिए इतनी धनराशि नहीं है।


वहीं, दूसरे उम्मीदवारों की संपत्ति हजारों करोड़ के आसपास है।

इसके साथ ही चुनाव प्रचार की अवधि में महज 15 दिन शेष हैं, इस अवधि में जन सहयोग से राशि जुटाना संभव नहीं है।’

समरीते ने चुनाव आयोग से अनुरोध किया है कि आयोग 75 लाख रुपये की राशि उपलब्ध कराए

बैंक से उक्त राशि बतौर कर्ज दिलाने में मदद करें।

यह दोनों ही संभव नहीं हो तो उसे अपने दो में से एक गुर्दा बेचने की अनुमति दें।

वे 10 वर्ष बाद निर्वाचन प्रक्रिया में सम्मिलित हो रहे हैं।

आर्थिक स्थिति बेहतर नहीं है, लिहाजा चुनाव आयोग उनकी मदद करे अथवा गुर्दा बेचने की अनुमति प्रदान करें।

गुर्दा बेचने के सवाल पर समरीते का कहना है कि आज चुनाव लड़ने के लिए उनके पास रुपये नहीं है।

कोई मदद करने की स्थिति में भी नहीं है।

इसलिए वे अपना गुर्दा बेचने को तैयार हैं।

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Linkedin Join us on Linkedin Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS