पाकिस्तान की पहली महिला अंतरिक्ष यात्री ने चंद्रयान-2 के लिए इसरो को दी बधाई

पाकिस्तान की पहली महिला अंतरिक्ष यात्री ने चंद्रयान-2 के लिए इसरो को दी बधाई

कश्मीर को लेकर भारत और पाकिस्तान के बीच तीखी बयानबाजी के बीच पाकिस्तान की पहली महिला अंतरिक्ष यात्री नमिरा सलीम ने भारत और इसरो को चंद्रयान-2 मिशन के लिए बधाई दी है। सलीम ने कहा कि चंद्रमा पर लैडिंग का प्रयास करना ही अपने आप में दक्षिण एशिया के साथ ही पूरे वैश्विक अंतरिक्ष उद्योग के लिए एक ”बड़ी छलांग” है। उल्लेखनीय है कि चंद्रयान- 2 के लैंडर ‘विक्रम’ की शुक्रवार देर रात चंद्रमा पर सॉफ्ट लैडिंग कराने की भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) की योजना उम्मीद के अनुरूप सफल नहीं हो पायी थी।

लैंडर जब चंद्रमा से करीब 2.1 किलोमीटर दूर था तब उसका जमीनी स्टेशन से सम्पर्क टूट गया था। इसे चंद्रमा के लिए देश के दूसरे अभियान का ”सबसे जटिल” चरण माना जा रहा था। सलीम ने कहा कि मैं भारत और इसरो को चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर विक्रम लैंडर की एक सफल सॉफ्ट लैडिंग कराने के उसे ऐतिहासिक प्रयास के लिए बधाई देती हूं। चंद्रयान-2 चंद्रमा मिशन वास्तव में दक्षिण एशिया के लिए एक बड़ी छलांग है जो न केवल क्षेत्र बल्कि पूरे वैश्चिक अंतरिक्ष उद्योग को गौर्वांवित बनाता है।


सलीम अंतरिक्ष में जाने वाली पहली पाकिस्तानी हैं। वह सर रिचर्ड ब्रैनसन के र्विजन गैलेक्टिक से अंतरिक्ष में गई थीं। उन्होंने कहा कि दक्षिण एशिया में अंतरिक्ष के क्षेत्र में क्षेत्रीय विकास शानदार है। इसरो चंद्रमा पर साफ्ट लैडिंग कराने में असफल रहा, इस बीच इसरो प्रमुख के सिवन ने रविवार को कहा कि हां हमने चंद्रमा पर लैंडर का पता लगा लिया है। यह संभवत: हार्ड लैडिंग थी।

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Linkedin Join us on Linkedin Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS