ऑक्सफोर्ड के प्रोफेसर ने सबसे पुरानी 11 बायबल के हिस्से चुराकर बेच दिए

ऑक्सफोर्ड के प्रोफेसर ने सबसे पुरानी 11 बायबल के हिस्से चुराकर बेच दिए

वर्ष 2012 से विद्वान और यूनिवर्सिटी ऑफ ऑक्सफोर्ड के अधिकारी एक अफवाह का पता लगाने की कोशिश कर रहे थे। कहा जा रहा था कि अब तक पता चला सबसे पुरानी बाइबिल का टुकड़ा न केवल अस्तित्व में था, बल्कि दो तरीके से चोरी हो गया था और अमेरिकी कला और शिल्प की महान संस्था हॉबी लॉबी को बेच दिया गया था। अब, अधिकारियों ने कहा कि उन्होंने मामले को सुलझा लिया है। बताया गया है कि प्रोफेसर डिर्क ओबबिंक ने ऑक्सफ़ोर्ड के ऑक्सीरिस्कस पपियरी प्रोजेक्ट (ऑक्सीराइन्चस पिपरी प्रोजेक्ट) को चुराया था। यह सदियों पुराना एक प्राचीन साहित्य था, जिसे 1896 में मिस्र के कचरे के ढेर से बरामद किया गया था।
बताते चलें कि नेब्रास्का मूल के डिर्क ओबबिंक दुनिया में सबसे प्रसिद्ध क्लासिक्स के प्रोफेसरों में से एक हैं। सोमवार को पिपरी प्रोजेक्ट के अधिकारियों ने ओबीबैंक ने तीन महीने की जांच के नतीजे जारी किए। इसमें प्रो पर आरोप लगाया गया कि वह ग्रीन परिवार के लिए कम से कम 11 प्राचीन बाइबिल अंश चुराकर ले गए और उन्हें बेच दिया। हॉबी लॉबी के मालिक ग्रीन फैमिली एक बाइबिल संग्रहालय और वाशिंगटन में धर्मार्थ संगठन चलाते हैं।

इजिप्ट एक्सप्लॉर्प सोसाइटी, एक गैर-लाभकारी संस्था है, जो प्राचीन साहित्य के पिपरी प्रोजेक्ट के संग्रह का एक संग्रह है। बाइबल के संग्रहालय ने वाशिंगटन पोस्ट के साथ साझा किए गए बयानों में उनके निष्कर्षों के बारे में बताया। गैर-लाभकारी संस्था ने एक बयान में कहा कि संग्रहालय ने ईईएस को इंगित किया है कि प्रोफेसर ओबबिंक द्वारा हॉबी लॉबी स्टोर्स को बेचे जाने के बाद बायबल के 11 हिस्से इसकी देखभाल में आए थे।


हालांकि, ऑक्सफोर्ड में अभी भी बतौर प्रोफेसर काम कर रहे ओबबिंक ने इस मामले में अपनी कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। हालाँकि, उसने पहले कुछ आरोपों को खारिज कर दिया है। बताते चलें कि बायबल म्यूजियम ने सोमवार को कहा कि वह इन हिस्सों को इजिप्ट एक्सप्लोरेशन सोसाइटी को लौटा देगी।

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Linkedin Join us on Linkedin Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS