नहाने के बाद गर्दन पर करें इन 5 औषधियों की मालिश, दूर हो जाएगा कालापन

नहाने के बाद गर्दन पर करें इन 5 औषधियों की मालिश, दूर हो जाएगा कालापन

गर्दन का कालापन आमतौर पर स्‍वच्‍छता में कमी की वजह से देखी जाती है। इसके अलावा लंबे समय तक सूरज के संपर्क में रहना, पर्यावरणीय प्रदूषण, सौंदर्य प्रसाधन या त्‍वचा की देखभाल में केमिकल का ज्‍यादा प्रयोग के अलावा मोटापा और मधुमेह की वजह से भी गर्दन के ऊपर कालापन दिखने लगता है। इसे लोग मैल के रूप में भी देखते हैं।


एक्जिमा या फंगल इंफेक्‍शन के कारण भी त्वचा का रंग काला पड़ जाता है। एक हार्मोनल स्थिति जिसे Acanthosis Nigricans के रूप में जाना जाता है, गर्दन और शरीर के अन्य हिस्सों के आसपास की त्वचा को काला कर सकती है। इन स्थितियों के लिए, उन उपचारों का उपयोग करें जो समस्या का इलाज करते हैं।

एलोवेरा

एलोवेरा के पत्‍ते लें और उसे काटकर जेल। इस जेल से कुछ मिनट के लिए अपनी गर्दन को स्क्रब करें। इसे 10 मिनट के लिए छोड़ दें। इसके बाद पानी से धोएं। इसे आप नहाने के बाद रोजाना कर सकते हैं। एलोवेरा में पाया जाने वाला एलोइसिन होता है जो त्‍वचा के कालेपन को दूर करता है। जो एंजाइम होते हैं जिससे पिगमेंटेशन होता है, ये उन्‍हें खत्‍म कर देते हैं। एलोवेरा त्वचा को हाइड्रेटेड और पोषित रखता है क्योंकि इसमें आवश्यक फैटी एसिड, विटामिन और खनिज होते हैं।

आलू का रस

आलू को पीस लें और रस निकालने के लिए अच्छी तरह से निचोड़ें। इसे गर्दन पर लगाएं और 10-15 मिनट तक सूखने दें और गुनगुने पानी से धो लें। इसे आप रोजाना लगा सकते हैं। आलू के रस का विरंजन गुण आपकी गर्दन पर त्वचा के रंग को हल्‍का करता है। इस उपाय से काले धब्बे जल्द ही दूर होने लगेंगे।

बादाम का तेल

बादाम तेल या नारियल तेल की कुछ बूँदें लें। इसमें 1-2 बूँदें टी ट्री ऑयल का मिला सकते हैं। इसके बाद अपनी गर्दन को साबुन और पानी से धोएं। इसे सूखा दें। अब, बादाम के तेल या नारियल के तेल से अपनी गर्दन की मालिश करें। यदि आपके घर के आसपास चाय के पेड़ का तेल पड़ा है, तो इसे बेहतर परिणाम के लिए वाहक तेल में जोड़ें। 10-15 मिनट तक गोलाकार गतियों में मालिश करते रहें। इसके बाद गुनगुने पानी से धो लें। आप तेल को पोंछने के लिए एक कॉटन का उपयोग कर सकते हैं। इसे रोजाना प्रयोग में ला सकते हैं।

बादाम का तेल विटामिन ई से समृद्ध होता है, जो त्वचा को चिकना और फिर से जीवंत करता है। यह अपने स्केलेरोसेंट गुणों के साथ एक हल्का विरंजन एजेंट भी है जो रंग और त्वचा की टोन को बेहतर बनाने में मदद करता है। टी ट्री ऑयल रक्त परिसंचरण में सुधार करता है और मौजूद किसी भी निशान या धब्बा को ठीक करता है।

ऑलिव ऑयल और नीबू का रस

नींबू के रस और जैतून के तेल के बराबर भागों को मिलाएं। बिस्तर पर जाने से पहले इस सीरम को अपनी गर्दन पर लगाएं। ऐसा एक महीने तक रोज़ाना करें और त्वचा के रंग निखारते हुए दिख जाएंगे। नींबू में प्राकृतिक विरंजन गुण होते हैं। यह रंग को उज्ज्वल करता है और छिद्रों को भी सिकोड़ता है। जैतून का तेल की स्थिति और त्वचा को हाइड्रेट करती है और इसे नरम बनाती है।

बेकिंग सोडा

2 से 3 चम्‍मच बेकिंग सोडा लें उसमें पानी मिला दें। चिकना पेस्ट पाने के लिए बेकिंग सोडा में पर्याप्त पानी डालें। इस पेस्ट को गर्दन पर लगाएं और सूखने दें। एक बार जब यह सूख गया है, तो गीली उंगलियों का उपयोग करके इसे साफ़ करें। साफ पानी से क्षेत्र को धोएं। मॉइस्चराइज करें। इसे आप रोजाना लगा सकते हैं। यह पेस्‍ट आपकी गर्दन से त्वचा की सुस्त और मृत परत को आसानी से हटाने में मदद करता है। बेकिंग सोडा को परिसंचरण को बढ़ावा देने के लिए भी जाना जाता है, और यह आपकी त्वचा को भीतर से पोषण देता है।

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Linkedin Join us on Linkedin Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS