डायबिटीज को शीघ्र करिए खत्‍म, जानें सेवन का सही तरीका

डायबिटीज को शीघ्र करिए खत्‍म, जानें सेवन का सही तरीका

डायबिटीज एक ऐसी स्थिति है जो हाई ब्‍लड शुगर को चिह्नित करती है। मधुमेह के कई प्रकार हैं जैसे- टाइप 1, टाइप 2, प्रीडायबिटीज, और जेस्टेशनल डायबिटीज। जागरूकता की कमी और देर से निदान अक्सर लोगों के लिए डायबिटीज जानलेवा हो सकती है। ब्लड शुगर लेवल में उतार-चढ़ाव स्वास्थ्य संबंधी स्थितियों जैसे मोटापा, किडनी फेल्योर और दिल की गंभीर बीमारियों का कारण बन सकता है।

जबकि दुनिया भर के शोधकर्ता ऐसे तंत्रों को डिजाइन करने के लिए काम कर रहे हैं जो मधुमेह को सुधार सकते हैं। अब तक डायबिटीज रोगियों को अपने डाइट की देखभाल करने और निर्धारित दवाएं लेने की सलाह दी जाती है जिससे शुगर लेवल के उतार-चढ़ाव पर अंकुश लगाया जा सके।


आपका आहार मधुमेह प्रबंधन से बहुत ही निकटता से जुड़ा है। यदि खानपान में सावधानी बरती जाए तो डायबिटीज के स्‍तर में सुधार किया जा सकता है। मधुमेह में हमेशा उन खाद्य पदार्थों के सेवन की सलाह दी जाती है जो फाइबर पर उच्च होते हैं और ग्लाइसेमिक इंडेक्स में कम होते हैं। करेला या करेला उनमें से एक है। आप करेले को अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं। उन्हें आप उबालकर या जूस के तौर पर सेवन कर सकते हैं। करेला के रस के कई फायदे हैं और इसे मधुमेह को प्रबंधित करने के लिए एक बहुत प्रभावी टॉनिक माना जाता है।

मधुमेह के प्रबंधन के लिए कैसे प्रभावी है करेले का जूस

अध्ययनों के अनुसार, करेले में मधुमेह विरोधी गुणों के साथ कुछ सक्रिय पदार्थ होते हैं, उनमें से एक कैरेंटिन है, जो अपने रक्त शर्करा को कम करने में प्रभावी होता है। करेले में एक इंसुलिन जैसा यौगिक होता है जिसे पॉलीपेप्टाइड-पी या पी-इंसुलिन कहा जाता है जो स्वाभाविक रूप से मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए होता है। ये पदार्थ या तो व्यक्तिगत रूप से काम करते हैं या रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में मदद करते हैं।

करेला जूस कैसे बनाये?

1. चाकू की मदद से करेले को छील लें।

2. करेले को बीच से चाकू से काट लें।

3. एक बार काटने के बाद इसके बीच का सफेद हिस्‍सा निकालकर फेंक दें। अब इन्‍हें छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें और लगभग 30 मिनट के लिए ठंडे पानी में भिगोएं।

4. एक जूसर में करेले के टुकड़े डालें और आधा चम्मच नमक और नींबू का रस डालें। इसके बाद इसका जूस तैयार कर लें।

5. जूसर में जूस तैयार होने के बाद इसे कपड़े से छान लें। इसे ग्‍लास में निकालें और पीएं। इसे आप सप्‍ताह में 2 से 3 दिन पी सकते हैं। किसी तरह का साइडइफेक्‍ट होने पर चिकित्‍सक की सलाह लें।

Read More Articles On https://indiaabhiabhi.com/home-remedies/

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Linkedin Join us on Linkedin Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS