फीफा ने भारत में होने वाले अंडर -17 महिला विश्व कप को कोरोनावायरस के कारण स्थगित कर दिया

कोरोनावायरस के कारण एक और बड़ा खेल घटना संपन्न किया गया है। इस बार कोरोना ने फुटबॉल फैंस को निराश किया है। भारत में नवंबर में होने वाली फीफा अंडर -17 महिला विश्व कप कोरोनावायरस महामारी के कारण सुरक्षित कर दिया गया। टूर्नामेंट में 16 टीमें हिस्सा लेने वाली थी। जिसमें मेजबान होने के नाते भारत को प्रत्यक्ष प्रवेश मिला था।

ये अंडर -17 महिला विश्व कप में भाग लेने का भारत का पहला मौका था। फीफा कन्फेडरेशन वर्किंग ग्रुप ने अंडर -17 विश्व कप को रोकने के लिए निर्णय लिया है। फीफा परिषद के ब्यूरो ने कोरोनावायरस महामारी के परिणामों से निपटने के लिए इस वर्किंग ग्रुप का गठन किया है।


देखिए अपना सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

भारत पहली बार फीफा अंडर -17 महिला विश्व कप का आयोजन कर रहा था। इस घटना का आयोजन 2 नवंबर से 21 नवंबर तक भारत के 5 अलग-अलग शहरों में होना चाहिए था। भारत में अंडर 17 महिला विश्व कप का शेड्यूल फरवरी में जारी किया गया। देवी मुंबई में फाइनल होना था। लेकिन लगातार बढ़ रही कोरोनावायरस के खतरे की वजह से इसका आयोजन रोक दिया गया है।

इसके बाद भारतीय फुटबॉल संघ ने भी अपना बयान जारी किया। एआईएफएफ ने कहा कि यह कितनी कोरोनावायरस की महामारी से लोगों की जान बचाना हमारी प्राथमिकता है। फुटबाल टीम, खिलाड़ी, सपोर्टिंग स्टाफ और फैंस के स्थाला को देखते हुए ये फैसला जरूरी था। हम पूरी तरह से फीफा के फैसले का समर्थन करते हैं। साथ ही ये उम्मीद करते हैं कि जल्द ही जब स्थिति सामान्य हो जाएगी तो हम एक सफल टूर्नामेंट का आयोजन करेंगे।

जल्द ही नई तारीखों का ऐलान होगा

इसके अलावा आप लोगों ने बताया कि वर्किंग ग्रुप ने फीफा परिषद से पनामा कोस्टा रिका में 2020 में होने वाले फीफा अंडर 20 विश्व कप को भी प्रभावित करने का अनुरोध किया। ये बैनर अगस्त-सितंबर में होने वाला था। इसके साथ ही नवंबर में भारत में होने वाला अंडर 17 विश्व कप भी स्थगित करने का अनुरोध किया गया है। फीफा ने एक बयान में कहा कि नई तारीखों की घोषणा जल्द ही होगी।

इसके साथ ही महिलाओं के आंतरिक कैलेंडर पर काम करने के लिए एक उप कार्यसमूह के गठन का भी फैसला लिया गया। जो फीफा के टूर्नामेंटों के शेड्यूल में बदलाव करेगा। वर्किंग ग्रुप में फीफा प्रशासन और महासचिव और सभी फेडरेशन्स के शीर्ष कार्यकारी शामिल थे। टेलीकांफ्रेंस के जरिए पहली बैठक में कई सुझावों पर सर्वसम्मति से मंजूरी जताई गई।

पूरे विश्व में कोरोनावायरस ने हाहाकार मचाई हुई है। हर ओर कोरोनावायरस के मामले में सुनाई दे रहे हैं। अब तक पूरे विश्व में 11 लाख से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। इसमें 60 हजार से ज्यादा लोगों की जान भी गई है। वहीं भारत में भी अब तक कोरोना ने लगभग 3 हजार लोगों को अपने चपेट में ले लिया है। इसमें 70 के करीब लोगों की जान जा चुकी है।

एक तरफ कोरोना काone लोगों की सेहत पर है। वहीं दूसरी ओर कोरोनावायरस की वजह से अर्थव्यवस्था पर भी खतरनाक असर पड़ रहा है। खे

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Linkedin Join us on Linkedin Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS