देशभर में दशहरे की तैयारियां, तस्वीरों में देखें रावण के पुतले

देशभर में दशहरे की तैयारियां, तस्वीरों में देखें रावण के पुतले

देशभर में इस समय दशहरे की धूम मची हुई है। यह पावन पर्व बुराई पर अच्छाई के जीत के प्रतीक के रूप में मनाया जाता है। मान्यता अनुसार त्रेता युग में भगवान श्रीराम ने लंका नरेश रावण का वध इसी दिन किया जाता है। आइए तस्वीरों के माध्यम से जानते हैं, कैसे चल रही है दशहरे की तैयारियां…

दशहरा का पर्व अच्छाई की बुराई पर जीत का प्रतीक माना जाता है। भगवान राम ने रावण का वध दशहरा के दिन ही किया था।


दशहरा के त्योहार को शस्त्र पूजा के रूप में भी मनाया जाता है। क्षत्रिय समाज इस दिन अपने शस्त्रों की पूजा करते हैं जिसे आयुध पूजा के रूप में भी जाना जाता है। इस दिन शमी पूजन भी करते हैं।

देश के विभिन्न हिस्सों में दशहरा को कृषि उत्सव के रूप में भी मनाया जाता है।

ब्राह्मण समाज इस दिन देवी सरस्वती की पूजा करते हैं।

वैश्य समाज अपने बहीखाते की आराधना करते हैं।

नवरात्रि रामलीला का समापन भी दशहरे के दिन होता है।

रावण, कुंभकर्ण और मेघनाथ का पुतला जलाकर भगवान राम की जीत का जश्न मनाया जाता है।

रावण के पिता ऋषि और मां राक्षसी थी। जन्म के समय ही रावण इतना भयानक था कि पहली बार देखने पर इनके पिता भयभीत हो गए थे।

रावण ज्योतिष का प्रकांड विद्वान था। अपने पुत्र को अजेय बनाने के लिए इन्होंने नवग्रहों को आदेश दिया था कि वह उनके पुत्र मेघनाद की कुंडली में सही तरह से बैठें।

रावण के अशोक वाटिका में एक लाख से अधिक अशोक के पेड़ के अलावा दिव्य पुष्प और फलों के वृक्ष थे। यहीं से हनुमान जी आम लेकर भारत आए थे।

रावण की नाभि में अमृत था। इसी कारण से रावण का एक सिर कटने के बाद पुनः दूसरा सिर आ जाता था और वह जीवित हो जाता था।

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Linkedin Join us on Linkedin Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS