शादियों में बढ़ रहा फ्लोरल ज्वेलरी का क्रेज, दुल्हन की खूबसूरती में लाएगा निखार

शादियों में बढ़ रहा फ्लोरल ज्वेलरी का क्रेज, दुल्हन की खूबसूरती में लाएगा निखार

त्योहार, शादी-ब्याह का अवसर हो या फिर कोई गैट-टू- गैदर, ज्वेलरी के बिना महिलाओं का लुक अधूरा होता है। नए साल के ट्रेंड्स में इन दिनों ब्राइट मेकअप के साथ ज्वेलरी का क्रेज भी खूब देखा जा रहा है। एसेसरीज का बेहतर इस्तेमाल कर महिलाएं अपने लुक में निखार ला रही हैं। शादियों की अलग-अलग रस्मों में फ्लोरल ज्वेलरी पहनना एक ट्रेंड सा बन गया है। ये दुल्हन की खूबसूरती तो बढ़ातें ही हैं साथ ही साथ उन्हें सबसे अलग लुक भी देते हैं। तरह-तरह के फूलों से बने इस फ्लोरल ज्वेलरी में नैकलेस, मांग टीका, झुमके, ब्रेसलेट और खूबसूरत हाथफूल आकर्षक लुक देते हैं।

मेहंदी की रस्म में पीले फूलों का यूज


इन फूलों की डिजाइन वाली ज्वेलरी को भी थीम बेस को साथ लेकर इवेंट के तौर पर पहना जा रहा है। जैसे अगर हल्दी की रस्म होती है तो उसमें पीले रंग के फूलों का उपयोग कर माथे का टीका, कान के इयर रिंग और बेंगल्स पहने जा रहे है। वही मेहंदी की रस्म में कलरफुल मिक्स फूलों को चुना जा रहा है।

लाइट वेट

इस ज्वैलरी में फूल और पत्तियों का इस्तेमाल किया जाता है। शादी से जुड़ी छोटी-छोटी सेरेमनी में इसका अधिक इस्तेमाल किया जाता है। इसमें ईयरिंग्स, रिंग्स, नेकलेस, रानी हार, कमरबंद, बाजूबंद, मांगटीका और हाथफूल सभी फूलों के बने होते हैं। इसे बनाने में कई तरह के फूल जैसे गुलाब, गेंदा, मोगरा, ऑर्किड शामिल करते हैं। ये फ्रेश भी हो सकते हैं और आर्टिफिशियल भी। ताजे फूलों से तैयार फ्लोरल जूलरी को आराम से 3-4 घंटे पहना जा सकता है।इससे न केवल आप ताजगी महसूस करेंगी बल्कि लाइट वेट होने के कारण कम्फर्ट भी फील होगा। इनकी कीमत 300 रुपए से शुरू होती है।

मीनाकारी बढ़ाती है खूबसूरती

फ्लोरल पैटर्न की ज्वेलरी वैसे तो खुद में ही काफी खूबसूरत और कलात्मक होती है, पर इसमें चार-चांद लगाने का काम आजकल मीनाकारी की कला कर रही है। एंटीक गोल्ड यानी ब्लैक पॉलिश किए हुए गोल्ड के साथ फ्लोरल डिजाइन और मीनाकारी का कॉम्बिनेशन ज्वेलरी को और प्रभावी लुक देता है।

मिलता है क्लासी लुक

ऐसा तब होगा, जब नेकपीस एक खास अंदाज में बना हो। दरअसल इस वक्त ऐसे फ्लोरल नेकपीस चल रहे हैं जिनमें बस एक ही तरह के फूल कतार में लगे होते हैं। इनमें न कोई दूसरे फूल का शेप होता है और न ही रंगों का कॉम्बिनेशन। बस चेन और उसमें लाइन से लगे एक ही आकार और रंग के फूल। ऑर्किड और गुलाब शेप में तो यह बहुत ही प्यारे लगते हैं। इस तरह की ज्वेलरी में ज्यादातर हल्के रंगों का इस्तेमाल किया जा रहा है।

पेपर जूलरी

ऐसी महिलाएं जिन्हें मेटल से एलर्जी जल्दी हो जाती है उनके पेपर जूलरी बेहतर विकल्प है। कॉलेजगोइंग गर्ल्स पर भी ये काफी फबती है।लाइट पेपर जूलरी में कान के आभूषण, हाथ के कंगन, ब्रोच, गले का हार आदि सब उपलब्ध हैं। कागज के अलावा क्रिस्टल और कुंदन का इस्तेमाल कर इन आभूषणों की खूबसूरती बढ़ाई जाती है।खास बात है कि इनकी कीमत भी काफी कम होती है। अपनी ड्रेस के अनुसार पेपर जूलरी का कलर सिलेक्ट कर सकती हैं। इनकी कीमत 150 रुपए से शुरू होती है।

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Linkedin Join us on Linkedin Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS