देश को बेहाल कर देगा कोरोना वायरस, भारतीय रिजर्व बैंक की इस रिपोर्ट से उड़ेंगे मोदी सरकार के होश

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने कोरोना वायरस के संकट को भविष्य के संकेत के रूप में वर्णित किया है। केंद्रीय बैंक ने अपनी मौद्रिक नीति रिपोर्ट में कहा कि कोरोना के कारण घोषित लॉकडाउन सीधे देश की अर्थव्यवस्था को प्रभावित करेगा। इस महामारी से पहले, अर्थव्यवस्था 2020-21 में मंदी से उबरने की उम्मीद कर रही थी, लेकिन अब परिदृश्य पूरी तरह से बदल गया है। रिपोर्ट के अनुसार, इस संकट का वास्तविक परिणाम इसकी प्रतिक्रिया की गति और आर्थिक गतिविधि को सामान्य स्थिति में लौटने में लगने वाले समय पर निर्भर करेगा। आरबीआई की रिपोर्ट ऐसे समय में आई है जब कोरोना वायरस की महामारी के कारण 21 वें दिन 21 वें लॉकडाउन ने देश में प्रवेश किया।

2020 में विश्व अर्थव्यवस्था की मंदी में प्रवेश करने की चेतावनी


RBI ने कहा कि दुनिया भर के वित्तीय बाजार वैश्विक अस्थिरता का सामना कर रहे हैं क्योंकि वैश्विक कमोडिटी की कीमतें, विशेष रूप से कच्चे तेल की कीमतों में भारी गिरावट आई है। इससे विश्व अर्थव्यवस्था को कैलेंडर वर्ष 2020 में मंदी का सामना करना पड़ सकता है।

RBI ने अनुमान लगाया

– फरवरी में 6.58 प्रतिशत खुदरा मुद्रास्फीति की तुलना में मार्च में यह चार महीने के निचले स्तर 5.93 प्रतिशत तक जा सकती है।

2020-21 की पहली तिमाही में खुदरा मुद्रास्फीति की दर 4.8 प्रतिशत हो सकती है, दूसरे 4.4 प्रतिशत में, तीसरी में यह घटकर 2.7 प्रतिशत और चौथे में 2.4 प्रतिशत पर आ सकती है।

– वर्ष 2021 के लिए भारतीय टोकरी के लिए कच्चे तेल की औसत कीमत $ 35 प्रति बैरल रहेगी।

– केंद्र का राजकोषीय घाटा जीडीपी का 3.5 प्रतिशत होने का अनुमान है। साझा सकल घरेलू उत्पाद का 6.1 प्रतिशत

– रुपये के मुकाबले डॉलर का मूल्य लगभग 75 रुपये रहेगा।

– मानसून सामान्य रहेगा लेकिन वैश्विक विकास दर घटेगी।

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Linkedin Join us on Linkedin Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS