कोरोना वायरस: सैटेलाइट इमेज से चीन का बड़ा पर्दाफाश, बड़ी संख्या में जलाए जा रहे है शव!

कोरोना वायरस से लगातार होती मौतों और संक्रमण को लेकर दुनिया हलकान है। ऐसे में उपग्रह से ली गई एक तस्वीर ने नई आशंकाओं को जन्म दिया है। सोमवार को वुहान की सैटेलाइट तस्वीर सामने आई। इसमें आग के बड़े गोले के रूप में सल्फर डाई ऑक्साइड गैस दिख रही है। वैज्ञानिकों के मुताबिक ऐसा मेडिकल वेस्ट या शवों को जलाने से हो सकता है।

सैटेलाइट तस्वीरों से खुला राज


चीन के वुहान और चोंगक्विंग शहरों की कुछ ऐसी सैटेलाइट तस्वीरें सामने आई हैं। जिससे पता चलता है कि इन दो जगहों पर भारी मात्रा में कुछ जलाया जा रहा है। क्योंकि इन दोनों इलाकों के उपर भारी मात्रा में सल्फर डाई ऑक्साईड गैस दिखाई दे रही है। वुहान के वायुमंडल सल्फर डाइऑक्साइड का स्तर 1700 यूजी/घन मीटर है, जो सामान्य से 21 गुना ज्यादा है। विशेषज्ञों का मानना है कि इतनी भारी मात्रा में सल्फर डाई ऑक्साईड गैस तभी निकलेगी, जब लाशें जलाई जाएं।

14 हजार लाशों के जलाए जाने का शक

इन दोनों शहरों के उपर फैली सल्फर डाई ऑक्साईड की मात्रा को देखकर इंटेलवेब नाम की संस्था ने अनुमान लगाया है कि इन इलाकों में कम से कम 14 हजार शव जलाए गए हैं। चीन के सोशल मीडिया पर भी ये वायरल हो रहा है कि वुहान के बाहरी इलाकों में लोगों के शव जलाए जा रहे हैं। सल्फर डाई ऑक्साईड वुहान और चोंगक्विंग शहरों के उपर फैली है। ये दोनों शहर कोरोना वायरस की चपेट में हैं। इनकी दूरी 900 किलोमीटर है।

ताईवान के अखबार ने 24 हजार मौतों की आशंका जताई थी

ताइवान के एक न्यूज पेपर ‘ताइवान न्‍यूज’ में चार दिन पहले रिपोर्ट छापी थी कि चीन में कोरोना वायरस से डेढ़ लाख लोग प्रभावित हो चुके हैं और 24 हजार से ज्यादा मौतें हो चुकी हैं। इस अखबार ने ये रिपोर्ट चीन की दूसरी सबसे बड़ी कंपनी टेनसेंट के हवाले से छापी थी। टेनसेंट ने पहले तो डाटा रिलीज कर दिया, लेकिन बाद में इसे हटा दिया गया। लेकिन तब तक ताइवान के एक न्यूज पेपर ‘ताइवान न्‍यूज’ ने इसे छाप दिया था। जिसके बाद दुनिया ने चीन में कोरोना वायरस की गंभीरता को समझा।

गंभीर खतरे में है चीन के लोग

ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक अगले कुछ सप्ताह में चीन के वुहान शहर में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 5 लाख तक हो सकती है। वुहान में 23 जनवरी से ही 1 करोड़ 10 लाख लोग घरों में बंद करके रखे गए हैं। लंदन स्कूल ऑफ हाइजीन ऐंड ट्रॉपिकल मेडिसिन ने कोरोना वायरस के संक्रमण के तरीके का अध्ययन करके बताया है कि जिस रफ्तार से वुहान में कोरोना वायरस फैल रहा है, उससे फरवरी के आखिर तक वुहान की 5 फीसदी आबादी यानी लगभग 5 लाख लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हो जाएंगे।

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Linkedin Join us on Linkedin Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS