वास्तु के हिसाब से फर्नीचर रखने की सही दिशा चुनें

वास्तु के हिसाब से फर्नीचर रखने की सही दिशा चुनें

वास्तु शास्त्र में बताए गए नियमों के जरिए हर कोई अपना घर उसी के हिसाब से सजाता है। क्योंकि आज के इस आधुनिक युग में हर कोई वास्तु को दिल खोलकर गले लगा रहा है। बता दें कि वास्तु शास्त्र में हर चीज़ का समाधान बताया गया है। यानि कि घर को बनाने के लिए और उसे सजाने के लिए किस तरह की चीज़ों का प्रयोग हो या फिर कैसा और किस तरह का फर्नीचर इस्तेमाल में लाया जाए, ये सब बातें वास्तु में बताई गई है। इसी के साथ आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि जब आप लकड़ी का फर्नीचर घर लाते हैं, उसे किस दिशा में रखना सही होगा।

फर्नीचर खरीदते समय ये ध्यान रखना चाहिए कि फर्नीचर के किनारे अधिक नुकीले नहीं होने चाहिए। नुकीले किनारे निगेटिव एनर्जी को बढ़ाते हैं। इसलिए नुकीले चीज़ों को अवॉयड करना चाहिए।


वास्तु शास्त्र के अनुसार हल्के फर्नीचर को, जैसे मेज-कुर्सी आदि को पूर्व दिशा में रखना ठीक होता है, जबकि भारी फर्नीचर को दक्षिण-पूर्व दिशा रखना अच्छा माना जाता है।

इन दिशाओं में फर्नीचर रखने से घर-परिवार की आर्थिक स्थिति अच्छी बनी रहती है और जीवन में सबकी लगातार गति होती है। साथ ही बिज़नेस में बढ़ोतरी होती है।

वास्तु के अनुसार घर के किसी भी कमरे में, ड्राइंग रूम में या अन्य किसी जगह पर लकड़ी का फर्नीचर रखने के लिए आग्नेय कोण, यानी दक्षिण-पूर्व दिशा का चुनाव करना ठीक होता है। बता दें कि अगर आप इस दिशा में हरा रंग किया हुआ लकड़ी का फर्नीचर रखते हैं या फर्नीचर पर कोई हरे रंग की चीज़ रखते हैं, तो ये आपके लिए और भी फायदेमंद होगा।

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Linkedin Join us on Linkedin Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS