जेट एयरवेज़ पर मुश्किलें जारी, डिप्टी सीईओ और सीएफओ ने दिया इस्तीफा, 7.50% टूटा शेयर

जेट एयरवेज़ पर मुश्किलें जारी, डिप्टी सीईओ और सीएफओ ने दिया इस्तीफा, 7.50% टूटा शेयर

मुंबई. जेट एयरवेज (Jet Airways) के सीएफओ के बाद अब उसके चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर (सीईओ) विनय दुबे ने भी कंपनी से इस्तीफा दे दिया है। दुबे इससे पहले डेल्टा एयरलाइंस, सैबर इंक और अमेरिकन एयरलाइंस में कई अहम जिम्मेदारियां निभा चुके चुके हैं। वह जेट एयरवेज से अगस्त, 2016 में जुड़े थे। एक दिन पहले कंपनी डिप्टी चीफ एग्जीक्यूटिव और सीएफओ अमित अग्रवाल ने भी कंपनी से इस्तीफा दे दिया था।

15 महीने पहले संभाली थी सीईओ की जिम्मेदारी

जेट एयरवेज ने मंगलवार को एक रेग्युलेटरी फाइलिंग में कहा, ‘सीईओ विनय दुबे ने व्यक्तिगत कारणों से तत्काल प्रभाव से इस्तीफा दे दिया है।’ दुबे ने लगभग 15 महीने पहले चीफ एग्जीक्यूटिव क्रामेर बाल के इस्तीफे के बाद यह पद संभाला था और तब से कार्यकारी सीईओ की जिम्मेदारी निभा रहे थे।


सीएफओ ने भी दिया इस्तीफा

एक दिन पहले कंपनी के डिप्टी चीफ एग्जीक्यूटिव अमित अग्रवाल ने भी इस्तीफा दे दिया था। उन्होंने भी इसके पीछे व्यक्तिगत कारणों को वजह बताया। दो शीर्ष अधिकारियों के इस्तीफे के बाद कंपनी की मुश्किलें और भी बढ़ गई हैं। इससे पहले अप्रैल में पूर्व चीफ इलेक्शन कमीशन नसीम जैदी भी अपने पद से इस्तीफा दे चुके हैं।

जेट पर है 8 हजार करोड़ रु का कर्ज

वहीं एसबीआई की अगुआई वाले लेंडर्स के कंसोर्टियम को एयरलाइन के वास्ते खरीददार की तलाश में खासा जूझना पड़ रह है। कंपनी को आर्थिक संकट के कारण पिछले महीने के मध्य में अपने ऑपरेशन को पूरी तरह बंद करना पड़ गया था। जेट एयरवेज पर लगभग 8 हजार करोड़ रुपए का कर्ज है।

शेयरों में भारी गिरावट

एक साथ दो बड़े अधिकारियों के इस्तीफे से जेट के शेयर में बड़ी गिरावट देखने को मिली। कंपनी का शेयर शुरुआती कारोबार में ही लगभग 13 फीसदी टूट गया और 122 रुपए का दिन का लो छूआ। हालांकि बाद में कुछ रिकवरी देखने को मिली और शेयर 7.50 फीसदी कमजोर होकर 129 रुपए पर बंद हुआ।

जेट को 1500 करोड़ रु निवेश की जरूरत

जेट एयरवेज का अप्रैल से ही संचालन बंद है। इसके चलते जेट एयरवेज के हजारों कर्मचारियों को नौकरी गंवानी पड़ी। हालांकि अब जेट के अंतरराष्ट्रीय सहयोगी एतिहाद ने हिस्सेदारी खरीदने की इच्छा जताई है। लेकिन वह सिर्फ 1700 करोड़ रुपए निवेश करेगी। वहीं शुक्रवार को जेट के लिए बोली लगाने की समयसीमा खत्म हो गई और तब तक सिर्फ एतिहाद ने ही बोली लगाई थी। जेट को कम से कम 15,000 करोड़ के निवेश की जरूरत है।

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Linkedin Join us on Linkedin Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS